Gemini (मिथुन)

जनवरी से मार्च के मार्च के मध्य आपका सप्तम भाव अधिकतर ग्रहों से प्रभावित रहेगा। हालांकि शनि 24 जनवरी को अष्टम भाव में, मकर राशि में आ जायेंगे। इस समय नयी स्थितियां आपके सामने आयेंगे। आप पिछले काफी समय से जिस परिवर्तन की चाह कर रहे थे अब उसमें सफलता मिलेगी। नये लोगों से मुलाकात होगी। विवाह के इच्छुक जातकों के लिए शुभ समाचार मिल सकता है।

अप्रैल से जून के मध्य बृहस्पति भी शनि के साथ अष्टम भाव में आ जायेंगे। यह स्थिति कुछ नकारात्मक प्रभाव देगी। कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। जिनकी वजह से खुद के ही गलत निर्णय होंगे। पूंजी निवेश में सावधानी बरतें। भूमि संबंधी कार्य भी उलझ सकते हैं।

जुलाई से 20 नवम्बर के मध्य बृहस्पति दोबारा वक्री होकर सप्तम भाव में आयेगा और 19 सितम्बर को राहू वृष और केतु वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे। आपकी योजनाएं पुनः क्रियान्वित होने लगेंगी। बस आपको अपने अंतर्मन की आवाज सुननी है और अपनी बौद्धिक क्षमताओं का इस्तेमाल करना है।

20 नवम्बर से वर्षान्त के दौरान बृहस्पति पुनः अष्टम भाव यानि मकर राशि में आ जायेंगे। अतः यह स्थिति फिर से कुछ व्यवधान उत्पन्न कर सकती है। पूंजी निवेश में कुछ परेशानी रहेगी। परिवार के किसी व्यक्ति का स्वास्थ्य चिन्ता का विषय हो सकता है। अतः 2020 पूर्ण वर्ष ही कुछ मिले-जुले परिणाम ही प्रदान करेगा।