Taurus (वृषभ)

जनवरी से मार्च के दौरान वृष राशि के जातकों के अष्टम भाव में कई ग्रहों – बृहस्पति, शनि, केतु, बुध, सूर्य की युति रहेगी। हालांकि 24 जनवरी को शनि मकर राशि में प्रवेश कर जायेगा। जब अष्टम भाव में बहुत से ग्रह हों तो एक अलग सी स्थिति उत्पन्न करते हैं। अगर दशा अच्छी हो तो कई संकटों से मुक्ति मिलेगी। और अगर दशा शुभ नहीं है तो समय ज्यादा चुनौतिपूर्ण हो जाता है। कुछ दबे हुए मसले उठ सकते हैं। अतः दशा ही तय करेगी कि इस समय फल क्या मिलेगा। तो सहज होकर स्थिति का सामना करें। जनवरी के माह में आपका प्रयास यह होना चाहिए कि विकट स्थिति में धैर्य बना रहे।

अप्रेल से जून के मध्य बृहस्पति भी अतिचारी होकर मकर राशि यानि नवम भाव में आ जायेगा और यह सुखद स्थिति है। पहले जो भी दिक्कतें, उलझनें आ रही थी उनका समाधान मिलेगा। भाग्य का सहयोग बना रहेगा। रूकी हुई योजनाओं में गति आयेगी। विदेश यात्रा के भी योग बन रहे हैं।

जुलाई से 20 नवम्बर के मध्य बृहस्पति वक्रगति से वापस अष्टम भाव में प्रवेश कर जायेगा और राहू 19 सितम्बर को वृष राशि में और केतु वृश्चिक राशि में आ जायेंगे। यह समय थोड़ा संघर्ष वाला रहेगा लेकिन घबराने की आवश्यकता नहीं है। बाद में उसके परिणाम शुभ ही मिलेंगे। अतः मेहनत से न डरें।

20 नवम्बर से दिसम्बर तक का समय फिर से सुखद परिणाम लाने वाला है। बृहस्पति पुनः नवम भाव में शनि के साथ आ जायेगा और पिछले कुछ समय से संघर्ष की जो स्थिति चल रही थी उसके शुभ परिणाम सामने आने लगेंगे। जमीन-जायदाद के मामलों में सफलता मिलेगी। आर्थिक स्थिति में सुधार होगा और आय का कोई अतिरिक्त स्रोत भी प्राप्त हो सकता है। पारिवारिक वातावरण खुशहाली लिए रहेगा एवं परिवार में कोई शुभ कार्य भी संपंन हो सकता है। कुल मिलाकर इस दौरान परिणाम आपके पक्ष में रहेंगे।